The best Side of रोज़ सुबह उठने के बाद ये जरुर सुनो

अब यादें ही मुझे दर्द दें तो उसे इलज़ाम क्या दूँ।

वो याद बहुत आते हैं जो हुमको भुला बैठे हैं।

[22] For instance, perhaps you ought to break into a new industry of work but you can't make any connections with businesses. As opposed to making it possible for yourself to generally be as well intimidated to network with Other folks who is likely to be able that may help you achieve your dreams, force your self to talk to individuals. Get away from your house and check out networking situations. This may open up new alternatives for yourself, and with the quite minimum it's going to alter the way you consider networking and pursuing work check here opportunities.

खो जाओ मेरी आँखों में, बस जाओ मेरी धड़कनो में,

तुम्हारी याद भी लेकिन इसी मलबे में रहती है।

​उम्र की राह में ​रा​स्ते बदल जाते हैं​;

इसलिए आपको याद करते हैं जीने के बहाने से।

कभी वो शख्स मेरी ही सांसों से जिया करता था।

ये दिल ही काफी है तेरी याद में जलने के लिए।

वरना तुझ को याद get more info करने की खता हम बार-बार न करते!

अभी मशरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा;

तड़प उठता है मेरा दिल आ जाये जो तेरी याद;

जिंदा हैं या मर गए इतना रोज़ सुबह उठने के बाद ये जरुर सुनो तो पूछ लिया करो।

इस व्यस्त जिंदगी में कौन किसको याद करता है;

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15

Comments on “The best Side of रोज़ सुबह उठने के बाद ये जरुर सुनो”

Leave a Reply

Gravatar